हाईकोर्ट के आदेश पर गिने गए पंचायत के वोट, पहुंचे BJP-MP, हुआ हंगामा

0
215
हाईकोर्ट के आदेश पर गिने गए पंचायत के वोट, पहुंचे BJP-MP, हुआ हंगामा
हाईकोर्ट के आदेश पर गिने गए पंचायत के वोट, पहुंचे BJP-MP, हुआ हंगामा

बलरामपुर : यूपी के बलरामपुर जिले के आज पंचायत चुनाव की पुनर्मतगणना संपन्न हुई। विकासखंड हरैया सतघरवा के ग्राम कैली में मतगणना के दौरान धांधली का आरोप लगा था। जिसके बाद तत्कालीन हारे हुए प्रत्याशी ने हाईकोर्ट का रुख किया और वहां से पुनर्मतगणना का आदेश ले आए। बलरामपुर के इतिहास में पहली बार किसी ग्राम सभा चुनाव की पुनर्मतगणना चुनाव के ढाई साल बाद कोर्ट के आदेश पर की गई है।

यह भी पढ़ें …..बलरामपुर अस्पताल के सीनियर सुपरिंटेंडेंट के आचरण से कोर्ट खफा

एसडीएम व अन्य अधिकारियों की मौजूदगी मे मतगणना से ठीक पहले दोनों प्रत्याशी समर्थकों के बीच झड़प शुरू हो गयी। जिसकी वजह मतगणना में देरी बताई जा रही है। हंगामे की खबर सुनकर प्रत्याशी सुधा पाल के समर्थन में लोकसभा श्रावस्ती से भाजपा सांसद दद्दन मिश्रा भी एसडीएम दफ्तर में आ धमके और एसडीएम को तीखे तेवर दिखाते हुए मतगणना सुचारु रुप से कराने का निर्देश दिया। काफी मशक्कत के बाद पूर्ण हुई पुनर्मतगणना में पूर्व में विजयी घोषित प्रत्याशी हसीन बनो ने ही 2 मतों से जीत दर्ज की।

हाईकोर्ट के आदेश पर गिने गए पंचायत के वोट, पहुंचे BJP-MP, हुआ हंगामा
हाईकोर्ट के आदेश पर गिने गए पंचायत के वोट, पहुंचे BJP-MP, हुआ हंगामा

यह भी पढ़ें …..बलरामपुर: बंधक जमीनों के दाखिल खारिज पर रोक लगाए जाने का मामला

साल 2015 में पंचायत चुनाव संपन्न हुए थे इस दौरान विकासखंड हरैया सतघरवा के ग्राम सभा कैली में मतगणना के दौरान 1527 मतों की कुल गिनती की गई थी जबकि कुल 1514 ही पड़े थे, 13 मतों की ज्यादा गिनती आने के बाद बवाल मच गया था।

तत्कालीन हारे हुए प्रत्याशी सुधा पाल ने तत्कालीन जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी से गुहार लगाई लेकिन कोई कार्यवाही नही हुई जिसके बाद सुधा पाल ने हाइकोर्ट का रुख किया और ढाई साल की लंबी कानूनी लड़ाई के बाद, पुनर्मतगणना का आदेश हासिल किया।

यह भी पढ़ें …..बलरामपुर: सवारियों से भरी जीप ने बाइक सवार को मारी टक्कर, 1 मासूम समेत चार घायल

कोर्ट के आदेश के बाद आज पुनर्मतगणना की गई। मतगणना में हो रही देरी से दोनों प्रत्याशियो के समर्थक भड़क गए और हंगामा शुरू कर दिया। हंगामे की खबर सुनते ही सांसद दद्दन मिश्रा व उनके समर्थक भी मौके पर पहुंच गए औऱ सीधे एसडीएम के चैम्बर में घुसकर एसडीएम व पुलिस अधिकारियों से तीखी बहस की, वही कुछ ही देर बाद साँसद की भी एसडीएम चैम्बर में इंट्री हो गयी जबकि योगी और मोदी सरकार ने सीधे सांसद और विधायकों को ऐसे मामलों से दूर रहने की सख्त हिदायत दे रखी है। भाजपा सांसद ने एसडीएम को तीखे तेवर दिखाते हुए पुनर्मतगणना को सही ढंग से कराने का निर्देश दिया। काफी हंगामे के संपन्न हुई पुनर्मतगड़ना में हसिमा बनो को 377 व सुधा पाल को 375 मत मिले, और पुनः हासिमा बनो को विजयी घोषित किया गया।

यह भी पढ़ें …..कहीं आपका जिला भी तो नहीं तूफान की जद में, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

पूरे मामले पर एडीएम अनूप कुमार शुक्ला ने बताया के माननीय हाई कोर्ट के आदेश पर कैली ग्राम सभा की पुनर्मतगड़ना सम्पन्न हुई है जिसमें पूर्व में विजयी घोषित प्रत्याशी हासिमा बनो ने 2 मतों से जीत दर्ज की है। वहीं साँसद के पहुँचने व एसडीएम पर दबाव बनाने के सवाल को एडीएम ने टाल दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here