योगी जी! आपकी पुलिस को सेलरी कम पड़ रही, देखिए पुलिसिया वसूली की लिस्ट

0
49
नोएडा में अवैध वसूली बटवारे को लेकर बवाल, SOG भंग की गई
नोएडा में अवैध वसूली बटवारे को लेकर बवाल, SOG भंग की गई

नोएडा/लखनऊ : नोएडा में पैसे के बंटवारे को लेकर एसओजी यानि स्पेशल आपरेशन ग्रुप के जवान आपस में भिड़ गए। विवाद इतना ज़्यादा बढ़ गया कि बीच सड़क पर ही जूतम पैज़ार शुरू हो गई। विवाद से भड़के एक पुलिस के जवान ने पूरा कथ्था चिठ्ठा डीजीपी को भेज दिया। शिकायत में कहा गया है कि नोयडा से ग्रेटर नोएडा तक सरिया, सीमेंट फैक्ट्रियों और होटलों से थानों में मोटी रक़म वसूली जाती है। जिस के बाद एसएसपी नोएडा डॉ अजय पाल शर्मा ने एसओजी टीम को ही भंग कर दिया है।

 

नोएडा में अवैध वसूली बटवारे को लेकर बवाल, SOG भंग की गई
नोएडा में अवैध वसूली बटवारे को लेकर बवाल, SOG भंग की गई

यह भी पढ़ें …..पुलिस कमिश्नरी सिस्टम! पहले अपने थाने तो ठीक कीजिये, योगी जी

यूपी पुलिस पर अवैध वसूली के आरोप यदा कदा लगते ही रहे हैं। कभी अवैध वसूली की वीडियो क्लिपिंग तो कभी आडियो क्लिपिंग सामने आती रही है।लेकिन नोएडा में अवैध वसूली की रक़म के बटवारे को लेकर हुई जूतम पैजार ने
नोएडा पुलिस का कथ्था चिठ्ठा खोल कर रख दिया है। बटवारे में कम रक़म मिलने से नाराज़ एक पुलिस कांस्टेबिल ने ब्योरे के साथ डीजीपी से शिकायत कर दी है। कांस्टेबिल के शिकायती पत्र में एसपी देहात से लेकर थानेदार और हमराही को मिलने वाली रक़म का ज़िक्र है। यही नहीं शिकायत करने वाले सिपाही ने किस दुकान या होटल से कितनी वसूली होती है। उस का पाई पाई हिसाब दिया है।

यह भी पढ़ें …..यूपी : प्रदेश भर के थानों में महिला पुलिस कर्मियों की ड्यूटी अफसर के तौर पर तैनाती

एसओजी टीम की शिकायत मिलने के बाद डीजीपी ओ पी सिंह ने एसएसपी नोयडा को जम कर फटकार लगाईं है। जिस के बाद एसएसपी नोएडा डॉ अजय पाल शर्मा ने पूरी एसओजी टीम को ही भंग कर दिया है, और मामले की जांच कराई जा रही है।

यह भी पढ़ें …..यहां गांव वाले खुद कर रहे अपनी सुरक्षा, मौन बैठी पुलिस

डीआईजी क़ानून व्यवस्था प्रवीण कुमार त्रिपाठी ने बताया कि इस मामले में उच्च स्तर पर मॉनिटरिंग की जा रही है। पूरे मामले की जांच कराने के आदेश दिए गए है और जो आरोपी होगा उस को बख्शा नहीं जाएगा।

वैसे तो ये पूरा मामला ही संगीन है। लेकिन इसमें जिस तरह से 9 एमएम की पिस्टल के 40 हजार रुपए का जिक्र किया गया है। वो अपने में बड़ा सवाल खड़ा करता है कि इस प्रतिबंधित बोर के पिस्टल से आखिर किस घटना को अंजाम दिया गया या दिया जाना बाकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here